Coming SOON... Launching SOON... Join US... READ THE UPDATED TEXT ON THIS WEBSITE AND SEND US YOUR FEEDBACK.... Coming SOON... Launching SOON... Join US... Coming SOON

जनता का उत्सव. लोकतंत्र उत्सव में आपका स्वागत है. Welcome आईये “जयपुर को लोकतंत्र का स्वर्ग बनाये” यानि जयपुर को विश्व का सबसे बेस्ट लोकतान्त्रिक पोलिटिकल डेस्टीनेशन। सत्य, अहिंसा, धरना, प्रर्दशन, हड़ताल से एक कदम आगे का रास्ता है लोकतन्त्र उत्सव। हमने एक लंबा सफर तय कर लिया है मनुष्यता और मनुष्यता के राजनीतिक, सांस्कृतिक, सामाजिक और आर्थिक विकास का। इसी विकास के सफर की अगली कड़ी है ये उत्सव।

BE A PART OF Google Survey लोकतंत्र उत्सव के लिए गूगल सर्वे का हिस्सा बनें। : Click here

JOIN US AS VOLUNTEER : Click here

LOKTANTRA UTSAV (DEMOCRACY FESTIVAL) IS A NEXT STARTUP BY HANU ROJ AFTER JIFF

ये मेरा राष्ट्र निर्माण की कड़ी में योगदान का व्यक्तिगत संकल्प है। कैसे हम लोकतन्त्र में चुनाव सुधार, विकास के नये मानकों, एंटी डवलप्मेंट थ्योरी से बहुआयामी सोच के साथ भारत को एक नए राष्ट्र निर्माण के रूप में पुन: स्थापित कर सकते हैं। इसकी शुरुआत जयपुर से एक स्टार्टअप के रूप में।

एक CEO ढ़ेर सारी योग्यताओं के आधार पर कंपनी को आगे बढ़ाता है वहीं राजनेता आज तोड़ मरोड़, साजिश, आर्थिक लेन देन, फूट, दलित के घर खाना खाकर जैसे मास्टर प्लान्स के आधार पर देश में जकड़न और सिकुड़न पैदा कर रहा है। अब ये युग ख़त्म। इस खेल की उल्टी गिनती शुरू।

लोकतन्त्र उत्सव स्टार्टअप देगा जयपुर से देश दुनियाँ को नई सोच, तोड़ेगा मिथक, मिटेगी मिथ्या भ्रांतियाँ और जनता को मिलेंगे नये अवसर। नया सोचो नया करो पुख्ता और जरूरत का पहले करो और होने दो।

हमारी महज 70 साल की लोकशाही के अचिवमेंट हैं की आज घर घर बाईक, कार, मोबाईल, टी वी, फ्रीज़ हैं, शिक्षा, पानी, बिजली, और खुशहाली हैं। अमेरीका ब्रिटेन ने जो 300 साल में नहीं किया हमने महज 70 साल में कर लिया है। हमने चाय वाले को प्रधानमंत्री और झोपड़ी वाले को राष्ट्रपति बनाया है। पर इस पर भी हमें रुकना नहीं है थकना नहीं है। कुछ केंसरनुमा बीमारियाँ देश को खा रही है। हम सब जानते हैं इनके बारे में। हमें उसकी औषधी का काम करना है। लोकतन्त्र उत्सव ये औषधी है।

दोस्तों, सोचो लोकतन्त्र। खाओ पीओ लोकतन्त्र। ओढ़ो बिछाओ लोकतन्त्र। जियो लोकतन्त्र। हम 70 साल में नहीं 70 महीनों में बहुत कुछ कर सकते हैं, करके रहेंगे। शुक्रिया लोकतन्त्र। जय जय लोकतन्त्र।

अहम पहलू, क्या आपने सोचा है बिना लोकतन्त्र के हमारा शहर हमारा देश आज जहां है शायद वहाँ नहीं होता। पर ये भी दुखद है की बढ़ता करप्शन और गिरती राजनीति और प्रशासनिक साख हम सब के लिए सोचानिये और चिंतनिय है। जानते हैं आज हम सब पर सबसे ज्यादा असर राजनीति और प्रशासनिक मूल्यों का पड़ रहा है और ये सड़ गए हैं। इन्हें बेहतर और बेहतर बनाना ही होगा। हम सब के जीवन पर इनका असर हर पल है। हम एक पल भी कायराना नहीं होने देंगे।

दोस्तों लोकतन्त्र उत्सव के तहत जयपुर को चुना गया है। मेरी सोच है की एक स्थल को यदि सबसे बेहतर बना दिया जाये तो, बाकी पर अनुकरण का सिद्दांत देर सवेर लागू हो ही जाता है। ये मनुष्यता की बड़ी आदत है। पूरी दुनियाँ का इतिहास इसका ग्वाह है।

इसके तहत जयपुर के हर राजनैतिक और राजनीतिक, प्रशासनिक, सांस्कृतिक, सामाजिक और आर्थिक ताने बाने को सबसे उन्न्त और विकास की सबसे सुंदर तस्वीर और जयपुर को दुनियाँ की एक ऐसी जगह बनाने का प्रयास है की जयपुर विश्व की सबसे बेहतर जगह बने। हर क्षेत्र में।

दुनियाँ का हर नागरिक जयपुर की चर्चा करे। जयपुर का मॉडल पूरे संसार के लिए अनुकरणीय हो। ये लोकतन्त्र उत्सव का मकसद है। ये ही काम लोकतन्त्र उत्सव की टीम हम सभी के साथ मिलकर बैठकर करना और कराना चाहेगी। आप भी इसमें अपना हाथ बंटा सकते है। बतौर स्वाभिमानी नागरिक और युवा के रूप में जुड़ सकते हैं। नए लोकतान्त्रिक जयपुर के मान में अपना नाम जोड़ सकते हैं। ये मॉडल एक विकसित इंसानियत का मॉडल है जिसके नियम कायदे, कामकाज के तरीके, प्रबंधन प्रणाली और स्पष्ट और सराहनिय होंगे।

इस उत्सव के लिए उत्सव टीम के साथ जुड़कर काम करने वाले सभी लोगों का नाम, जीवन परिचय और फोटो वेबसाईट पर लगाई जाएगी। अनुरोध पर इसे गुप्त भी रखा जा सकेगा।

इसके लिए हम सब जिम्मेदार जागरूक नियमबद्द नागरिक बनें, मिलकर एकल और सांझा प्रयास करें जहां भी हैं। हर उस ताकत और बुराई से लड़ें जो इस बीच में बाधा बन सकती है और बनेगी। कुछ लोग विरोध करेंगे। करें। कुछ चुप रहेंगे। रहें। कुछ साथ हो लेंगे। स्वागत। बस फिर क्या। हम तो हवा हैं, रोशनी हैं। नकारो या स्विकारो। हम हैं और रहेंगे।

एक बड़ा हथियार है। इस उत्सव को सफल बानाने के लिए। "एंटी डवलेपमेंट" मॉडल को अपनाना होगा। इसका सीधा सा अर्थ है। सब कुछ सरकार के पाले में नहीं डाल दिया जावे। सभी जिम्मेदारियाँ केवल सरकार की नहीं समझी जावे। नाव तो देखी होगी लहरों के विपरीत चलती है, ये ही है ये मॉडल। इसका विस्तार से उल्लेख अलग से किया जावेगा।

ये बिलकुल ही महत्वपूर्ण नहीं है और रहेगा की आज और अभी आप किस विचार या सरकार और पार्टी के साथ जुड़े हैं।

आप केंडल या दीपक जलाने की एक फोटो या सेल्फी लेकर सोसियल मीडिया पर पर शेयर करें। लिखे #लोकतंत्र_ उत्सव #Democracy_Festival

यकीन मानिये बेहतरी और बदलाव का दौर शुरू हो जाएगा। उसी पल से। बड़े बदलाव छोटी सी चीज या छोटी सी बात और तिनके भर सहयोग से होते आयें हैं। तिनका। कितना सा होता है। आँख में गिरा तो। पानी में गिरा तो।

मौका मिले तो लोकतन्त्र को आगे बढ़ाने वाली कहानियाँ, कवितायें, गाने गुनगुनाओ औरों को सुनाओं। रिकार्ड करके सोसियल मीडिया फेसबुक आदि पर शेयर करो। यकीन मानिए आपके चारों तरफ एक सकारात्मक माहौल होगा।

भरोसा करो। बेहतरी का भरोसा इतिहास में कभी कमजोर नहीं पड़ा।

जल्दी ही एक व्यापक प्रोग्राम चायपान, जलपान, मिलते जाने की कहानियाँ शुरू की जावेगी। हर चाय की चुस्की लाखों करोड़ों लोगों के दिलों में बस जाएगी।

मैं आप सभी का स्वागत करता हूँ "लोकतन्त्र उत्सव" और “जयपुर को लोकतंत्र का स्वर्ग बनाये” (यानि जयपुर को विश्व सबसे बेस्ट लोकतान्त्रिक पोलिटिकल डेस्टीनेशन) विचार के बारे में आपने पढ़ा। यहाँ एक गूगल सर्वे है जिसमें कुछ सवाल हैं जिनके जवाब चुन कर मुझे इस विचार के बारे में सही दिशा में आगे बढ्ने की ऊर्जा से लबालब कर सकेंगे।

ये मात्र एक लेख, शब्द या ड्राफ्ट नहीं है। ये भाषण नहीं है। ये आज है। कल है। हमारा आने वाला फ्यूचर है। जयपुर है। जयपुर से सारा जहां है।

अभी ये पहला चरण है जिसमें सभा-सम्मेलनों, विचार-विमर्शों, वाद-विवाद, गोष्टियों, जागरूकता लाने वाले कार्यक्रमों, मास्टर प्लान बनाने, नये प्लान सामने लाने, आय और खर्चे तथा समय प्रबंधन पर के लिए नये मॉडल्स को अपनाने जैसे विषयों के साथ काम करते/कराते हुये आगे बढ़ा जाएगा। आगे के चरणों पर इस चरण के परिणामों और प्रातक्रियाओं के बाद प्लान किया जावेगा।

– हनु रोज

BE A PART OF Google Survey : Click here

JOIN US AS VOLUNTEER : Click here

Click to Read More

Click to Hide

LOKTANTRA UTSAV ACTIVITIES

लोकतन्त्र को आगे बढ़ाने वाली विभूतियों के जन्म दिन मनाना, उनके विचारों को आम जन तक प्रसारित करना। जयपुर, राजस्थान, भारत और विश्व से सर्वे करके लोकतन्त्र के संस्थापकों और लोकतन्त्र को आगे बढ़ाने वाली विभूतियों का जन्म दिन मनाया जायेगा। इन महान विभूतियों के जीवन और कार्यों पर आधारित फोटो और टैक्स्ट (शब्द) प्रदर्शनियों के साथ साथ संवाद और चर्चाओं का आयोजन किया जायेगा। पूरे विश्व से जनता और मीडिया का ध्यान खींचा जायेगा।

जनता की समस्याओं, विकास तथा सरकारी योजनाओं और लोकतन्त्र को मजबूत बना सकने रीति नीतियों पर शोध को बड़े पैमाने पर शुरू किया जावेगा। जैसे समय प्रबंधन, सड़के, गड़ड़े, प्रदूषण, सफाई, दवा, पानी, सिवरेज, बिजली, अवैध निर्माण, शिक्षा, स्वास्थ्य आदि।

गुड बेड अग्ली (अच्छा बुरा बदचाल), वार्ड रेटींग, विधानसभा रेटींग, अफसर, मंत्री और मंत्रालय रेटींग। विकास एरिया वाई रेटींग, सरपंच, पार्षद, जिला परिषद सभी को एक उत्तम स्तर की रेटींग देने का काम शुरू किया जावेगा।

लोकतन्त्र को आगे बढ़ाने वाली संविधान सम्मत प्रदर्शनियों का आयोजन।

सोसियल मीडिया, युट्यूब चैनल आदि पर जनता को जोड़ने और जागरूक कर सकने वाला केम्पियन चलाया जाएगा।

धन बल भुजबल को कम करने पर शोध करते हुये प्रेक्टिकल कामकाज और एक्शन प्लान की तरफ आगे बढ़ना।

आज बिचोलियों की वजह से असली विकास अटका हुआ है। लोकतन्त्र केवल उन तक सीमित है। इन बिचोलियों और प्रभावशाली व्यक्तियों को अलग थलग करने की नीतियों पर शोध किया जावेगा। नए विचार सामने रखे जाएँगे। सोसियल मीडिया पर एक केम्पियन इसके लिये चलाया जाएगा। ऐसे लोगों के नाम सार्वजनिक किए जायेंगे।

री थिंक विचार को आगे बढ़ाना। हम एक बार ठहरकर सोचे हम जो भी कर रहे हैं उससे कितना नुकसान हो रहा है लाभ हो रहा है।

जयपुर शहर से सिविल लाईन्स और ग्रामीण से दूदू पर विशैष रूप से फ़ोकस होकर शोध और कार्य किये जायेंगे। यहाँ दो व्यक्तियों का अलग से लोकतान्त्रिक तरीकों से चुनाव प्रबंधन किया जायेगा। संविधान और कानून के हिसाब से 100%। इन मानको के आधार पर चुनाव तैयारी की जायेगी ताकी पूरे देश के सामने करोड़ों रुपये खर्च करने के मिथक थोड़े जा सकें। काम करके दिखाया जायेगा। जनता को खुशहाल बनाये जाने के तरीकों और शोध को बढ़ावा दिया जावेगा। इसी तरह एक से दो वार्डो को लेकर काम किया जायेगा ताकी एक अनुकरणीय मॉडल और सिस्टम डवलप किया जा सके।

सोसियल मीडिया पर सभी नगर और विधानसभा क्षेत्रों का फीडबैक लेना। क्या हम लोकतन्त्र की समझ रखते हैं। क्या हमारा सिस्टम लोकतन्त्र के अनुसार चलाया जा रहा है। हम सब को पता चल सके जनता की राय क्या है। कितनी गुस्सा है। कितनी खुश है। इसके लिए फेसबुक पेज बनाये जा रहे हैं। जहां हम सभ लोग संवाद कर सके। एक दूसरे से कनेक्ट हो सके।

किसी भी सरकारी विभाग या हमारी टीम के या काम के खिलाफ। केवल जयपुर से संबन्धित हो। हम एक ऐसा सिस्टम डवलप कर रहे हैं जिसके तहत जयपुर का कोई भी नागरिक/बच्चा सरकार से जुड़े किसी भी विभाग को शिकायत करता है तो तत्काल ओटोमेटिक रूप से शिकायत संबन्धित विभाग के अफसर, मंत्री और शिकायत से जुड़े व्यक्ति को एक साथ शिकायत दर्ज हो जाएगी इसकी एक कॉपी मुख्यमंत्री को भी जाएगी। इस शिकायत या पत्र का फोलोअप लोकतन्त्र उत्सव की एक टीम भी अलग से करेगी और जो भी जानकारी प्राप्त होगी उसका लाईव रिकार्ड वेबसाईट पर दर्ज रहेगा। इस सेवा को शुरू करने में वक्त लगेगा। आप इसके लिए आर्थिक सहयोग दे सकते हैं।

विकास और सड़क निर्माण – हम नागरिक सहभागिता को बढ़ायेँ जिससे सरकारों की ज़िम्मेदारी और बढ़े। एक छोटा सा उदाहरण हमारी सरकार सड़क बनाती है इसके बाद सिवरेज, जल निकासी, बिजली लाईन डालती है बार बार इससे आर्थिक भार बढ़ जाता है। सड़क टूट जाती है वहाँ मिट्टी ही मिट्टी उडती है। इससे दुपहिया वाहन चालकों को दिक्कत होती है दुर्घटनाएँ बढ़ती है। इस मिट्टी से गाड़ियों पर धूल चढ़ती है। गाड़ियों की धुलाई से जल बरबाद होता है। ये सिस्टम सिस्टेमिक होना चाहिए। ये ही नहीं सड़क ऊपर उठती जाती है मकान, सीवरेज के गड़ड़े नीचे चले जाते हैं फिर इनमें पैदल से लेकर सभी वाहन चालक धड़ाम धु। गाड़ियों को नुकसान होता है। ये सिस्टम बदलना चाहिए।
समय प्रबंधन - कोई भी प्रोक्जेक्ट पर काम तभी शुरू होना चाहिये जिससे इसके बाद बिना रुकावट के पूरा कर लिया जावे। हम जानते हैं 6 महीने के प्रोजेक्ट को 3 साल में पूरा करने से धन खर्च कई गुना बढ़ जाता है। रास्ते जाम हो जाते हैं। आम जन परेशान रहता है। ये करप्शन से भी बढ़ा करप्शन है।
मेंटीनेस - सरकार किसी भी प्रोजेक्ट को बनवा तो देती है जैसे पार्क ही मान लो। अब उसका मेंटीनेंस कौन करेगा। पार्क के झूले टूट जाते हैं। लाईटे खराब हो जाती है। बीजली के तार लटकते रहते हैं। आए दिन हादशे होते रहते हैं। हम नागरिकों को जागरूक होकर काम करना चाहिये। हो सके तो अपने खर्चे से भी इनकी मरमत करवा सकते हैं और सरकार से भी। सरकार को भी इस तरफ ध्यान देना चाहिये।
सभी काम एक साथ शुरू नहीं किए जाकर एक एक शुरू किए जाएँगे। यहाँ अधिकतर कामकाज इसलिए स्पष्ट किए गए हैं ताकी आप प्रबुध जन समझ सके की लोकतन्त्र उत्सव का ढांचा क्या हो सकता है। इसके लिए आपके सुझाव और सहयोग अपेक्षित है। ये हम सब का हम सब की बेहतरी के लिए प्रेक्टिकल काम काज करते हुये मनाया जाने वाला उत्सव है।
कोई रंजिश नहीं कोई दुश्मनी नहीं के फोरमेट पर आगे बढ़ा जाएगा।

SUPPORT LOKTANTRA UTSAV & JOIN US AS VOLUNTEER

इस उत्सव को आगे बढ़ाने के लिए कार्यालय हेतु जगह (जयपुर मुख्य कार्यालय, सिविल लाईन्स और दूदू कार्यालय हेतु), ऑनलाईन शिकायत प्रोर्टल और इससे जुड़े कामकाज, शोध, चर्चाओं आदि के लिए आर्थिक सहयोग, ऑफिस फर्नीचर और ऑफिस सामान कंप्यूटर आदि के लिए तत्काल सहयोग की जरूरत है। आपका सहयोग अपेक्षित है। लिखें या कॉल करें - M: +91-7014789252, T: +91-141 4055263, loktantrautsav@gmail.com OR hello@loktantrautsav.org

FOR ADVISE, HELP, SUPPORT, VOLUNTEER, INTERNSHIP, PLANNING AND WORK WITH US WRITE AT hello@loktantrautsav.org

Testimonials

Government of the people, by the people, for the people, shall not perish from the Earth.

Abraham Lincoln

लोकतन्त्र मुट्टी भर लोगों की तानाशाही, लूट और चालाकी का अडड़ा बन गया है। और लोकतन्त्र उत्सव आम जन को जगाने और जाग जाने का लोकतांत्रिक युद्द है।

From Democarcy Festival

लोकतन्त्र” मात्र एक लेख, शब्द या ड्राफ्ट नहीं है। ये भाषण नहीं है। ये आज है। कल है। हमारा आने वाला फ्यूचर है।

From Democarcy Festival

VOTE IS THE ELECTION AND ELECTED PEOPLE MIND SHOULD BE DEMOCRATIC, THEN WE CAN SEE REAL DEMOCRACY ON THE EARTH.

From Democarcy Festival

लोकतन्त्र” मात्र एक लेख, शब्द या ड्राफ्ट नहीं है। ये भाषण नहीं है। ये आज है। कल है। हमारा आने वाला फ्यूचर है।

From Democarcy Festival

लोकतन्त्र मुट्टी भर लोगों की तानाशाही, लूट और चालाकी का अडड़ा बन गया है। और लोकतन्त्र उत्सव आम जन को जगाने और जाग जाने का लोकतांत्रिक युद्द है।

From Democarcy Festival

Government of the people, by the people, for the people, shall not perish from the Earth.

Abraham Lincoln